Tuesday, December 31, 2013

छः और क्षणिकाएँ


{2013 बीत रहा है, एक और वर्ष आने ही वाला है। जाने वाला कुछ परिवर्तन देकर गया। वे कितने सार्थक हैं, यह आने वाला बतायेगा। पर मन है कि अपने आपमें कुछ खोजता-सा है, कुछ अचीन्हा-सा बोलता है। विगत 16 नवम्बर को माँ भी चली गयीं। इन्हीं सबके इर्द-गिर्द घूमती हैं ये अभिव्यक्तियां।}



पेंसठ
कल जब मिलूंगा आपसे
जानता हूँ- आप क्या कहेंगे
और आप भी 
मेरा जवाब जानते हैं
फिर भी/फांदते हुए
तमाम घटनाओं-दुर्घटनाओं को 
हम चले आते हैं...
चले जाते हैं...
एक शब्द पर सवार...

छियासठ
घूमता है
पहिए सा
समय
किन्तु फिर भी
खींचता है
एक सीधी रेख
यही व्याकरण है
इतिहास का!

सड़सठ
बसन्त आई
खुश हुए कुछ भौंरे
पर.....?
फूलों की पंखुड़ियों से
निकलने लगीं लपटें
झुलसने लगे पेड़

अड़सठ
गुलेलें तनी थीं
बगुलों की ओर
शिकार/मगर
हो गईं
गौरैय्याएं 

उनहत्तर
समुद्र/प्यासा ही रहा
बांट ली गई
नहरों में
नदी 
कुछ कह न पाई!
-------------------


और यह क्षणिका मां को याद करते हुए-
सत्तर

अब न कोई हिचकी आयेगी
न स्वप्न आयेगा
बस धूप ही धूप होगी सिर पर
और
एक आंचल याद आयेगा!

2 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (01-01-2014) को हों हर्षित तन-प्राण, वर्ष हो अच्छा-खासा : चर्चा मंच 1479 में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
ईस्वी नववर्ष-2014 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

vandana gupta said...

बेहतरीन प्रस्तुति …………रोंप खुशियों की कोंपलें
सदभावना की भरें उजास
शुभकामनाओं से कर आगाज़
नववर्ष 2014 में भरें मिठास

नववर्ष 2014 आपके और आपके परिवार के लिये मंगलमय हो ,सुखकारी हो , आल्हादकारी हो